मिर्जापुर मे मूध-बधिर बच्ची से रेप में कोर्ट ने पेश की नजीर, 23 दिन में सुनाई उम्रकैद की सजा

रिपोर्ट राजेश कुमार यादव
लखनऊ

यूपी के मिर्जापुर में छह साल की मूक बधिर बच्ची से रेप के मामले में महज 23 दिन की सुनवाई के बाद अदालत ने आरोपी को सजा सुना दी है। विशेष न्यायाधीश पॉक्सो एक्ट अच्छे लाल सरोज ने बच्ची से दरिंदगी करने वाले को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। दोषी को मौत होने तक जेल में ही रहना पड़ेगा। उस पर एक लाख रुपये जुर्माना भी लगाया गया है।

आरोप के अनुसार, सात जनवरी की रात मूक बधिर बालिका को जंगल में ले जाकर युवक ने दुष्कर्म किया था। परिजनों को बालिका ने इशारे से घटना के बारे में जानकारी दी। इस मामले में पुलिस ने आरोपी राकेश यादव के खिलाफ पॉक्सो, दुष्कर्म और एससीएसटी एक्ट में मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया।

विवेचक सीओ प्रभात राय ने 19 जनवरी को आरोप पत्र न्यायालय में प्रस्तुत किया। विशेष न्यायाधीश पॉक्सो एक्ट की अदालत में सुनवाई शुरू हुई। विशेष लोक अभियोजक सुनीता गुप्ता ने लगातार चली सुनवाई में पीड़िता, उसकी मां, मूक बधिर एक्सपर्ट और मेडिकल करने वाले डॉक्टर समेत 10 गवाह का परीक्षण कराया।

साक्ष्य, गवाहों के बयान और अधिवक्ताओं की दलील के आधार पर दुष्कर्म के आरोपी युवक को सोमवार को आजीवन कारावास के साथ एक लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई। एएसपी नक्सल महेश सिंह अत्री के अनुसार पीड़ित बालिका को त्वरित न्याय मिले, इसके लिए विवेचना पूरी कर आरोप पत्र जल्द न्यायालय में पेश करने की कोशिश की गई। सात जनवरी की घटना के बाद 19 जनवरी को विवेचना के बाद आरोप पत्र न्यायालय में प्रस्तुत किया गया। मुकदमा दर्ज होने पर पीड़ित परिवार के खाते में ढाई लाख भेजा गया था। अब फैसला आने के बाद ढाई लाख खाते में भेजवाया जाएगा।

छुट्टी के चलते तीन दिन बंद थी अदालत
बालिका से दुष्कर्म मामले में 23 दिन की सुनवाई में फैसला सुनाकर अदालत ने नजीर पेश की है। सात जनवरी को बालिका के साथ दुष्कर्म हुआ था। 19 जनवरी को आरोप पत्र अदालत में प्रस्तुत होने के बाद लगातार सुनवाई हुई। आरोप पत्र दाखिल होने के 26 दिन बाद फैसला आया। इन 26 दिनों में तीन दिन छुट्टी होने के चलते अदालत बंद थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *