आप हमारे न्युज पोर्टल पर अपने निजी या कारोबार के विज्ञापन चलवा सकते हैं जो देश व दुनिया को दिखाया जायेगा
हमारा न्युज पोर्टल STOP CRIME TV NEWS पांच भाषाओं में खबरै प्रसारण कर रहा है आप खबरैं पांचों भाषाओं,हिंदी, उर्दू, मराठी, गुजराती,और इंग्लिश में न्युज देख सकते हैं
हमारे चैनल से जुड़ने के लिए संपर्क करें sctvnewspress@gmail.com मो० नं 08482840886
आप के आसपास हो रहे क्राइम व भ्ररष्टाचार या अनैतिक कार्ययों से हमें अवगत कराऐ ।
Marathi Hindi English Gujarati Urdu

शरद पवार ने आखिरकार सोनिया गांधी से बदला ले ही लिया, याद करिए 1991 का वो समय शरद पवार ने आखिरकार सोनिया गांधी से 1991 का बदला ले ही लिया


राजेश कुमार यादव की कलम से
नई दिल्‍ली :

महाराष्‍ट्र में देवेंद्र फड़णवीस की सरकार बन गई है और एनसीपी के अजीत पवार डिप्‍टी सीएम बन गए हैं. हालांकि एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने अजीत पवार के फैसले से खुद को अलग कर लिया है, लेकिन राजनीतिक हलकों में माना जा रहा है कि शरद पवार ने बहुत करीने से कांग्रेस अध्‍यक्ष सोनिया गांधी से अपना बदला ले लिया है. जानकारों को याद होगा, जब 1991 में शरद पवार प्रधानमंत्री बनने की रेस में कांग्रेस में सबसे आगे चल रहे थे, लेकिन यह पद पीवी नरसिम्‍हा राव को दे दिया गया. शरद पवार कई बार खुलकर नाराजगी जता चुके हैं कि सोनिया गांधी के वीटो के चलते ही वे तब प्रधानमंत्री नहीं बन पाए थे.

शरद पवार ने अपनी किताब ‘लाइफ ऑन माई टर्म्स – फ्रॉम ग्रासरूट्स एंड कॉरीडोर्स ऑफ पावर’ में भी 1991 का जिक्र किया है. किताब में शरद पवार ने लिखा है, 1991 में 10 जनपथ के ‘स्वयंभू वफादारों’ ने सोनिया गांधी को इस बात के लिए सहमत किया था कि उनकी (पवार) की जगह पीवी नरसिंहराव को प्रधानमंत्री बनाया जाए, क्योंकि ‘गांधी परिवार किसी ऐसे व्यक्ति को पीएम नहीं बनाना चाहता था, जो स्वतंत्र विचार रखता हो.

अब जब महाराष्ट्र में सबसे बड़ा उलटफेर हुआ है, तब 1991 का राजनीतिक घटनाक्रम का जिक्र होना लाजिमी है. भले ही शरद पवार ने अजित पवार के फैसले से खुद को अलग किया है, लेकिन महाराष्ट्र में कांग्रेस और शिवसेना को तगड़ा झटका देकर शरद पवार ने सोनिया गांधी से 1991 का हिसाब चुकता कर लिया है.

बता दें कि महाराष्ट में शनिवार सुबह देवेंद्र फड़णवीस के नेतृत्‍व में महाराष्‍ट्र में नई सरकार का गठन हो गया है. एनसीपी नेता अजीत पवार डिप्‍टी सीएम बन गए हैं. ऐसा तब हुआ, जब उद्धव ठाकरे को सीएम बनाने पर कांग्रेस और एनसीपी सहमत हो गए थे. इस बीच अचानक अजीत पवार बीजेपी के साथ आ गए और शनिवार सुबह बीजेपी की सरकार बन गई.

Author: admin
Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *