आप हमारे न्युज पोर्टल पर अपने निजी या कारोबार के विज्ञापन चलवा सकते हैं जो देश व दुनिया को दिखाया जायेगा
हमारा न्युज पोर्टल STOP CRIME TV NEWS पांच भाषाओं में खबरै प्रसारण कर रहा है आप खबरैं पांचों भाषाओं,हिंदी, उर्दू, मराठी, गुजराती,और इंग्लिश में न्युज देख सकते हैं
हमारे चैनल से जुड़ने के लिए संपर्क करें sctvnewspress@gmail.com मो० नं 08482840886
आप के आसपास हो रहे क्राइम व भ्ररष्टाचार या अनैतिक कार्ययों से हमें अवगत कराऐ ।
Marathi Hindi English Gujarati Urdu

बिना सामूहिक वार्ता , बिना दावे, आपत्ति ,बना डाले 20 वार्ड मानवाधिकारो एवं मौलिक अधिकारो का किया गया हनन

ब्योहारी :- डा प्रणय तिवारी , अपराधशास्त्री :- हाल ही मे नगर पालिका ब्योहारी , की सीमा वृद्धि को इस कृपण तरीके से छल कपट के साथ 15 से 20 वार्डो मे विभाजित कर समस्त अधिकारियो के मनतान्त्रिक हस्ताक्छर ये सिद्ध कर रहे है जो ब्योहारी की जनता को गहन विचार पर विवश कर रहे है .
ना जनसंख्या की सीमा को ध्यान रखा , लोकतंत्र का चीरहरण करते हुए , जो कुटित, कलुषित राजनीति के तहत पासा चला उसी पर विभाजन कर डाला , जनता की राय समूचे भारतवर्ष की प्रथम प्राथमिकता है , परंतु यहा के कानून के आभावग्रस्त नुमाइन्दो के कारण गैर कानूनी रूप से पहले ही , पूर्वाग्रह से प्रेरित होकर व्यक्तिगत लाभ को ध्यान मे रखते हुए , राजनीतिक छल का सहारा लेते हुए , राजनीतिक गर्मी की जगह , महाभारत जैसी स्थिति को जन्म दे डाला है .
वार्डो के इस प्रकार के जनगणना विस्तार एवं बिना अतिरिक्त सीमा के सीमा विस्तार को लेकर संवैधानिक मौलिक अधिकारो , का संबंध जब कानूनविदो से पूछा गया तो उन्होने इसे असंवैधानिक करार दिया , कम शब्दो मे केवल इतना ही बोला गया कि बिना जनता की अनुमति के सी.एम. भी नही चुना जाता .
कुछ अतिगरीबो को एवं स्वार्थीतत्वो को इस बात से कोई फर्क नही पडता , परंतु समझने वालो को और भविष्य मे जन जन को होने वाली असुविधाओ और भविष्य संकट को भाप लेने वालो ने अलख जगाने का प्रयास किया है , हर बुद्धिजीवी इस प्रकार के वार्ड फर्जीवाडे को निन्दनीय एवं अधिकारियो की कर्तव्यो के प्रति घोर लापरवाही को उजागर करता है .
अल्प शब्दो मे यदि कहा जाय तो , यह स्थानीय नही अपितु एक पूर्वरचित षडयंत्र की श्रेणी मे आती है , जो शत प्रतिशत असंवैधानिक है , जिस पर जेल का रास्ता सीधा और साफ साफ नजर आ रहा है .
भारत के संविधान की अवहेलना का दृष्य ब्योहारी की शासन व्यवस्था से देखा जा सकता है , जिसमे नगर परिषद के कर्मचारी अधिकारी सभी ही दोषी पाये जा रहे है , जिसका निर्णय न्यायालय मे तो होगा ही , जनता की अदालत मे भी होगा.
और तो और षडयंत्र ऐसा रचा गया कि जल संसाधन एवं पुनर्वास मंत्रालय के अहस्तान्तरणीय, विवादित , विचाराधीन ,न्यू बरौधा जैसे विशेष परिधि के छेत्र को जिला कलेक्टर को स्पष्ट रूप से नही बतलाया गया .

आवश्यकता थी तो नगर परिषद के असक्छम , और कम पढे लिखे ,अयोग्य स्टाफ को बदलने की सुविधाओ एवं कर्मचारियो की संख्या मे वृद्धि करने , कुशल, अकुशल को छोड इन्होने वार्डो मे ही घमासान की स्थिति निर्मित कर दी . पर स्वयं पर कोई सुधार नही किया , जबकि नगर परिषद ब्योहारी की कामचोरी और भ्रष्टाचार से समूचा ब्योहारी का जनमानस त्रस्त है , स्थिति तो यह निर्मित हो गई कि सब के सब अब अपना नया, नया पता ढूढते फिरेगे . फिर सीमा विवादो को लेकर आपस मे झगडेगे , इस प्रकार नगर परिषद ने विद्रोह पनपाने की कोशिश की है , जो सी.आर.पी.सी. के तहत अपराध की श्रेणी मे आता है.

इस प्रकार से यह भी कहना अनुचित नही होगा कि जो अंधाधुन्ध घोटाले शासकीय योजनाओ मे हुए है उनसे दिमाग भटकाने के लिए यह नया पैतरा अपनाया गया है , क्योकि उनसे भी कुछ कानूनी प्रतिवाद जन्म ले लेते है . अपराधशास्त्र के अनुसार वार्डो मे बिना स्पष्ट प्रकाशन , प्रेस मीटिन्ग, पब्लिक मीटिन्ग के लिया गया यह निर्णय अपराध ही है , इसके अलावा कुछ नही .
इनके कथन
मै भोपाल मे हू , न्यू बरौधा को वार्ड नं. 13 मे नही जोडा गया है,बाकी मै नही जानता.
मुख्य नगर पालिका अधिकारी ब्योहारी
मै क्या जानू इतनी बडी बात जो बात है कार्यालय मे देख लीजिए
एस.डी.एम., ब्योहारी

Author: admin
Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *